2 Line Bewafa Shayari And dard Shayari collection # 1

2 Line Bewafa Shayari And dard Shayari collection # 1

Bewafa Shayari








बंद कर देना खुली आँखों को मेरी आ के तुम,
अक्स तेरा देख कर कह दे न कोई बेवफा।




Meri Wafa Fareb Hai Meri Wafa Pe Khaak Daal,
Tujhsa Hi Koi BaWafa Tujhko Mile Khuda Kare.

मेरी वफा फरेब थी मेरी वफा पे खाक डाल ।
तुझसा ही कोई बावफा तुझको मिले खुदा करे।




Samet Kar Le Jao Apne Jhoothe Vaadon Ke Adhure Kisse,
Agli Mohabbat Mein Tumhein Phir Inki Zarurat Padegi.

समेट कर ले जाओ अपने झूठे वादों के अधूरे क़िस्से
अगली मोहब्बत में तुम्हें फिर इनकी ज़रूरत पड़ेगी।



Kuchh Alag Hi Karna Hai Toh Wafa Karo Dost,
Bewafai Toh Sabne Ki Hai Majboori Ke Naam Par.

कुछ अलग ही करना है तो वफ़ा करो दोस्त,
बेवफाई तो सबने की है मज़बूरी के नाम पर।



Har Bhool Teri Maaf Ki Teri Har Khata Ko Bhula Diya,
Gam Hai Ki Mere Pyar Ka Tu Ne Bewafai Sila Diya.

हर भूल तेरी माफ़ की तेरी हर खता को भुला दिया,
गम है कि मेरे प्यार का तूने बेवफाई सिला दिया।


Jo Hukum Karta Hai Wo Iltija Bhi Karta Hai,
Aasman Bhi Kahin Jakar Jhuka Karta Hai,
Aur Tu Bewafa Hai Toh Yeh Khabar Ye Bhi Sun Le,
Intezaar Mera Koi Waha Bhi Karta Hai.


जो हुकुम करता है वो इल्तज़ा भी करता है,
आसमान भी कहीं जाकर झुका करता है,
और तू बेवफा है तो ये खबर भी सुन ले,
इन्तज़ार मेरा कोई वहाँ भी करता है।


Rehne De Yeh Kitaab Tere Kaam Ki Nahi,

Iss Mein Likhe Hue Hain Wafaaon Ke Tazkare.



रहने दे ये किताब तेरे काम की नहीं,

इस में लिखे हुए हैं वफाओं के तज़करे।





Agle Barson Ki Tarah Honge Qarine Tere

Kise Malum Nahi Barah Maheene Tere.



अगले बरसों कि तरह होंगे करीने तेरे,

किसे मालुम नहीं बारह महीने तेरे।

2 Line Bewafa Shayari And dard Shayari collection # 1 2 Line Bewafa Shayari And dard Shayari collection # 1 Reviewed by Farhan Mansuri on March 02, 2018 Rating: 5

No comments:

Powered by Blogger.